World News Today

India news, world news, sports news, entertainment news,

Ways To Avoid Depression: Why Depression Occurs, What Are The Symptoms And Causes Of Depression, Know What Is The Treatment Of Depression |

Depression: क्यों होता है डिप्रेशन, क्या हैं अवसाद के लक्षण और कारण, जानें कैसे करें डिप्रेशन का इलाज!

Ways To Avoid Depression: डिप्रेशन की स्थिति में किसी मनोचिकित्सक से मिलें और जरूरी सलाह लें.

खास बातें

  • डिप्रेशन एक मानसिक बीमारी है, जिसमें व्यक्ति नेगेटिव हो जाता है.
  • डिप्रेशन के लक्षण दिखने पर मनोचिकित्सक से मिलना जरूरी है.
  • डिप्रेशन से बचाव के कई तरीके हो सकते हैं.

What Is Depression: जिंदगी में हर कोई कभी न कभी डिप्रेशन (Depression) का शिकार हो ही जाता है. घरेलू प्रोब्लम्स या निजी समस्याओं के साथ-साथ डिप्रेशन के कारण (Cause Of Depression) कई हैं. आजकल की बिजी लाइफ में आप किसी को देखकर अंदाजा नहीं लगा सकते कि कोई इंसान अंदर से कितना परेशान है. डिप्रेशन या मनो अवसाद (Depression) एक मानसिक रोग की श्रेणी में आता है. आज की इस भाग-दौड़ भरी जिंदगी चाहे हमें पूरे दिनभर लोगों की भीड़ के बीच व्यस्त रखती हो, लेकिन कहीं न कही हमारे भीतर एक शांति लगातार घर करती चली जाती है. क्योंकि हमारी दिनचर्या इतनी व्यस्त हो जाती है कि हमें अपने लिए समय नहीं मिल पाता है. दिनभर हमारे दिमाग में कुछ न कुछ चलता रहता है. जिसे न आप किसी को बता पाते हैं और न खुद सहन कर पाते हैं.

यह भी पढ़ें

जो एक दिन डिप्रेशन (Depression) यानि मानसिक बीमारी का रूप ले लेती है. हमारी लाइफ में कई ऐसी घटनाएं होती हैं जिनका हमारे मानसिक स्वास्थ्य (Mental Health) पर गहरा असर होता है. कुछ बातें होती हैं जो अंदर ही अंदर खाए जाती हैं.  डिप्रेशन के लक्षणों (Symptoms Of Depression) को उदासी, नुकसान या ऐसे गुस्से के रूप में समझा जा सकता है, जिससे किसी इंसान की रोजमर्रा की गतिविधियों पर असर पड़ता है. डिप्रेशन का इलाज (Treatment Of Depression) नहीं किया गया तो यह हमारे मानसिक स्वास्थ्य काफी बुरा असर डाल सकता है. कुछ लोग खुद को जिंदगी से हारा हुआ समझने लगते हैं.यहां कुछ डिप्रेशन से बचने के उपाय (Ways To Avoid Depression) भी बताए गए हैं.

क्यों होता है डिप्रेशन | Why Is Depression

हम में से ज्यादातर लोग किसी एक ऐसी बात को लेकर उलझ जाते हैं, जिससे बाहर निकलना मुश्किल सा लगता है. डिप्रेशन हमें अंदर से खोखला कर सकता है. डिप्रेशन ज्यादातर ऐसे लोगों को होते है जिनकी जिंदगी में कोई बहुत बड़ा हादसा हुआ हो या जिसके पास दुखी होने की बड़ी वजहें हों. ये वजहें घरेलू हो सकती हैं खुद कि निजी हो सकती हैं. वहीं माना जाता है कि कुछ हद तक हमारे शरीर में हार्मोन में बदलाव होने से भी व्यक्ति डिप्रेशन का शिकार हो जाता है. यही वजह है कि डिप्रेशन में आप चाहकर भी खुश नहीं रह पाते.

lbej3dm8Depression Symptoms: अकेलापन पसंद होना डिप्रेशन का एक संकेत हो सकता है

आपने किसी ऐसे इंसान को देखा होगा, जो अपने आप से बातें करता रहता है या फिर कोई ऐसा जो हमेशा मरने की बातें करता है. हर छोटी-छोटी बात पर रो देता है. आप उन खुशमिजाज लोगों से भी मिले होंगे, जो अचानक से किसी ऐसी चिंता में चले जाते हैं जिससे बाहर निकलना उन्हें मुश्किल लगता है. ऐसे लोग डिप्रेशन या मानसिक परेशानी के शिकार होते है. 

डिप्रेशन के लक्षण (Symptoms Of Depression)

– उदासी

– अकेलापन

– बहुत ज्यादा गुस्सा.

– अगर आपको याद नहीं कि आप आखिरी बार खुश कब थे.

– बिस्तर से उठने या नहाने जैसी डेली रुटीन की चीजें भी आपको टास्क लगती हैं.

– आप लोगों से कटने लगे हैं.

– आप खुद से नफरत करते हैं और अपने आप को खत्म कर लेना चाहते हैं.

– महसूस हो कि कुछ भी ठीक नहीं हो रहा.

– ज्यादातर समय सिरदर्द रहना

डिप्रेशन के कारण (Causes Of Depression)

– माता-पिता की उम्मीदों पर खरा उतरने का दबाव

– शिक्षा और रोजगार का दबाव 

– पारिवारिक समस्याएं

– रिलेशनशिप की समस्याएं

– हॉर्मोन्स में बदलाव और किसी गंभीर बीमारी से पीड़ित होना.

– किसी काम में अगर उम्मीद के मुताबिक सफलता न मिले या वह काम बिगड़ जाए.

– कर्ज में डूबने की स्थिति में भी व्यक्ति डिप्रेशन में चला जाता है.

8r4ran

क्या है डिप्रेशन का इलाज (What Is The Treatment For Depression)

– अगर आपको खुद में कुछ भी डिप्रेशन जैसा लगे तो सायकाइट्रिस्ट या मनोचिकित्सक के पास जाएं. सलाह लेने में कोई कोताही न बरतें. सायकाइट्रिस्ट की बताई दवाओं के नियमित रूप से सेवन करें. 

इन तरीकों को भी आजमा सकते हैं-

– डिप्रेशन दूर करने के लिए आठ घंटे की नींद लें. नींद पूरी होगी तो दिमाग तरोताजा होगा और नकारात्मक भाव मन में कम आएंगे. रोजाना सूरज की रोशनी में कुछ देर बैठें. 

बाहर टहलने जाएं. दोस्तों से बातें करें. 

अपने काम का पूरा हिसाब रखें. दिन भर में आप कितना काम करते हैं और किस गतिविधि को कितना समय देते हैं इस पर जरूर गौर करें. इससे आपको सभी गतिविधियों के बीच संतुलन बनाने में आसानी होगी. योग को दिनचर्या में शामिल करें.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *